महिलाओं के प्रति अपराध और सामाजिक परिवर्तन की आवश्यकता


महिलाओं कि उन्नति या अवनति पर ही राष्ट्र कि उन्नति निर्भर है।

यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवताः ।

यत्रैतास्तु न पूज्यन्ते सर्वास्तत्राफलाः क्रियाः ।। 

जहाँ स्त्रियों की पूजा होती है वहाँ देवता निवास करते हैं और जहाँ स्त्रियों की पूजा नही होती है, उनका सम्मान नही होता है वहाँ किये गये समस्त अच्छे कर्म निष्फल हो जाते हैं।

शोचन्ति जामयो यत्र विनश्यत्याशु तत्कुलम् ।

न शोचन्ति तु यत्रैता वर्धते तद्धि सर्वदा ।।

जिस कुल में स्त्रियाँ कष्ट भोगती हैं ,वह कुल शीघ्र ही नष्ट हो जाता है और जहाँ स्त्रियाँ प्रसन्न रहती है वह कुल सदैव फलता फूलता और समृद्ध रहता है।

किसी भी जाति, धर्म, क्षेत्र, सम्प्रदाय की व्यवस्था और समाज के तानेबाने में एक लड़की व महिला को हम व्यक्ति के रूप में, एक समाज के रूप में और एक राष्ट्र के रूप में अगर हम सुरक्षा और उसकी निजता का सम्मान उपलब्ध कराने में असमर्थ हैं, तो यह समाज और राष्ट्र के रूप में न सिर्फ विफलता है बल्कि हमारी अब तक कि तमाम उपलब्धि शून्य स्वरूप है। वह भी तब जबकि एक महान गौरवपूर्ण सभ्यता और संस्कृति की विरासत वाला यह समाज जो कि पूरी मानव जाति को आदर्श प्रेरणा देने के लिए जाना जाता है। वहां पर इस तरह की विचारधारा और निकृष्ट क्रिया कलाप की खबरें न सिर्फ भयावह है बल्कि आज का यह वर्तमान उस इतिहास की परिसंपत्ति का निर्माण करता है जो भविष्य में शायद सिर्फ इस निकृष्ट जमापूंजी का बखान करेगा।

इस तरह की खबरे मानसिक विक्षोभ पैदा करती है और इस विचार के लिए बाध्य करती है कि हम किस समाज और विचारधारा को जी रहे है और किस तरह के लोग अपने आसपास पाए जाते है जो कि पूरी व्यवस्था को कलंकित करने का प्रयास करते है। महिलाओं के प्रति कुंठित, कुत्सित, दरिंदगी और वहशी मानसिकता किसी भी समाज और राष्ट के लिए दर्दनाक है। समाज और राष्ट्र की सेवा की व्यवस्था के रूप में राजनीति और प्रशासन अपनी अपरिमित, अपरिमेय और अप्रतिम उत्कृष्टता के लिए जाना जाना चाहिए लेकिन भ्रष्ट और उदासीन मानसिकता की सड़ी गली गंध वाली सोच वहां पर भी इसी समाज का आखिरी दर्पण है। इस समाज की विचारधारा और मानसिकता को बदलने का बीड़ा इस समाज को ही उठाना पड़ेगा और उस गंदगी का सफाया करना ही होगा।

मनुष्य के भेष में कुछ असभ्य जंगली जानवरों को जो कि एक महिला की इच्छा के विपरीत उसके सम्मान से खेलने वाले भेड़िये के रूप में इस समाज का हिस्सा हैं। उनको जीवित अवस्था मे नारकीय यातना का दर्शन कराना ही होगा ताकि उस दर्द को वो महसूस कर पाए जो कि किसी निर्दोष ने उनकी सनक के कारण भुगतान किया है। और साथ ही समाज मे महिला सम्मान की जागरूकता को भी परिलक्षित करने वाली विचारधारा के बीज बोने होंगे।

आने वाली पीढ़ी को बचपन से ही संस्कार की भट्टी में तपाना होगा ताकि हर व्यक्ति अपने जीवन की प्रारंभिक अवस्था से यह समझ सके कि महिला और पुरूष इस प्रकृति की मूल व्यवस्था में समान रूप से सहभागी है। महिला और पुरूष एक दूसरे का सम्मान करते हुए जीवन को आगे बढ़ाने, संपूर्णता के साथ जीने और सहभागिता के सिद्धांतों के साथ पूर्णता पाने में है। यह भी सत्य है कि कुछ स्वार्थी महिलाओं ने भी अपनी निजी महत्वाकांशाओ और वैचारिक पतन फलस्वरूप स्त्री मर्यादा को भ्रष्ट किया है एवं महिला होने के नाम पर पृकृति की पावन भूमि पर गलत अधिग्रहण किया है किंतु उसके बदले की भावना स्वरूप प्रतिक्रिया में किसी का अहित करने का कारण प्रदान नही कर सकते। वैचारिक और मानसिक पतन तो दोनों तरफ हुआ है और उसके कारणों में गए बिना उसका समाधान भी उतना ही जटिल मालूम पड़ता है।

स्त्री और पुरूष के लिए प्रकृति की व्यवस्था में कुछ मूल जिम्मेदारी और संस्कारों के निर्वाह का स्पष्ट उल्लेख है किंतु उसका वर्णन मीडिया के धंधे में फिट नही बैठता और मूर्ख बुद्धिजीवियों की दुकान में बिकने वाले सामान के विपरीत है। इस बात में कोई संशय नही की आज के दौर में आपके शब्दों और शब्दावली का मूल्यांकन इस आधार पर तय होता है कि आपके विचार राजनीतिक रूप से कितने सही है? क्या आपके विचार दोगले बुद्धिजीवियों के विचारों से तालमेल बिठाने अनुसार है या नही? अन्यथा आपको साम्प्रदायिक और संविधान विरोधी ठहराया जा सकता है।

अपवाद का उदाहरण देकर हम समग्र विषय की महत्ता और उसके परिणामों को नकार नही सकते। मूलतः अगर देखा जाय तो इंसान के आसपास के माहौल में पनप रही संस्कृति और विचारों का पोषण ही व्यक्ति की चारित्रिक और मानसिक दशा और दिशा का निर्माण करता है।

फूहड़ता और अश्लीलता के अधिकतम प्रदर्शन को स्वीकार करने की समाज मे बाध्यता ही निकृष्ट बुद्धिजीवी गैंग के लिए महिला सम्मान की परिभाषा है किंतु समाज और राष्ट्र को कमजोर करने वाली इस जहरीली सोच के दुष्परिणाम आये दिन परिलक्षित होते है। चाहे कोई भी देश, काल और परिस्थितियों में समाज मे विचारों का पोषण ही उस समाज के क्रियाकलापों को निर्धारित करता है।

इस तरह की तमाम चुनोतियाँ इस समाज मे मौजूद हैं लेकिन इस समाज और राष्ट्र का अंग होने के नाते हमारी भी अपनी कुछ जिम्मेदारी है जिसको हम कुछ नकारात्मक लोगो के पृष्ठभूमि में किये जा रहे विपरीत कार्यक्रम की आड़ में चुप नही बैठ सकते। हम शारिरिक और मानसिक रूप से अगर जिंदा है तो जिंदा लोगों की तरह कुछ सकारात्मक ऊर्जा के साथ कार्य करना ही होगा ताकि इस समाज और देश को हम बेहतर बना पाए और वर्तमान तथा भविष्य की पीढ़ी को इस पर गर्व महसूस करने का कारण बन सके।

मैं किसी इंसान को भगवान बनाने के बारे में बात नही कर रहा हूँ। हम तो मनुष्य को सिर्फ मानवता के व्यवहार को उत्कृष्ट बनाने की बात कर रहे है।

✍️तेज

नारी का सम्मान करें। एक दूसरे का सम्मान करें। सहअस्तित्व और समरसता को जीवंत करे।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s