हमारा अस्तित्व, हमारी पहचान और हमारा सम्मान कभी भी हमारे शरीर, जाति या हमारे कपड़ों से नहीं होता बल्कि हमारी पहचान और हमारा सम्मान हमारे कार्य, शब्दों के प्रति समर्पण और लक्ष्य के प्रति प्रतिबद्धता के कारण होता है। हम जीवन में जो भी पारिवारिक, सामाजिक, आर्थिक, व्यावसायिक लक्ष्य निर्धारित करते है खासकर तब जबकी किसी संगठन से जुड़े होने पर, अगर उस लक्ष्य को पूर्ण समर्पण और प्रतिबद्धता के साथ करने में विफल होते है तो समयपरांत संगठन में हमारी विश्वनीयता पर संदेह पैदा होने लगता है क्योंकि लक्ष्य तक पहुंचने में सदैव निष्फल वह व्यक्ति सिर्फ बहाने ढूंढता है और उस जैसे व्यक्तियों के कारण अन्य प्रभुद्ध व्यक्तियों की जवाबदेही भी विफलता के घेरे में आती है।
अगर आप भीड़ का हिस्सा नही बनना चाहते हैं तो अपने शब्दों और लक्ष्य के प्रति समर्पित होकर उसे सामान्य या असामान्य हर परिस्थिति में प्राप्त करने का जुनून पैदा कीजिये। कहानियां सिर्फ किताबो में अच्छी लगती हैं, वास्तविक जीवन यथार्थ के धरातल पर टिका होता है।

वो गद्दार है……….

हमारा देश हमारा स्वाभिमान है। हमारा देश हमारा गौरव है। इस महान राष्ट की अस्मिता और इसके गौरव के लिए लाखों महान सपूतों ने अपना सर्वस्व एवं अपने जीवन की आहुतियां दी है। मेने अपने शब्दों में धर्म, जीवनशैली, परिस्थितियों, निवास आदि को समेटते हुए ग़द्दारों को रेखांकित किया है। जय हिंद जय भारत

✍️ Tej